बस कर ऐ दिल …. उसके बिना अब तेरा धड़कना भी अच्छा नही लगता 😟😢

जनाजा उठा है आज कसमों का मेरी, एक कन्धा तो तेरे वादों का भी बनता है…😟💔😢

मेरी ख़ामोशी में सन्नाटा भी है शोर भी , तूने देखा ही नहीं , मेरी आँखों में कुछ और भी है 😢 😢

“हाल पूछा न खैरियत पूछी आज भी उसने मेरी हैसियत पूछी 😭 💔 😢”

कभी कभी दिल चाहता है , कि दिल अब कुछ भी ना चाहे 💔💔

युहीं उम्र काटी , दो ही अल्फाज़ में …. एक आस में और एक काश में 😢💔😢

ख्वाहिश थी उस रिश्ते को बचाने की…और यही वजह थी मेरे हार जाने की…😢 💔 😢

जैसे ही बात दोस्ती से आगे बढ़ी , दोस्ती भी नहीं रही 😢😢

मेरे लिखे लफज़ ही पढ़ पाया वो बस , मुझे भी पढ़ पाए इतनी उसकी तालीम नहीं 😭 💔 😢

जिनके दिल ❤ पे चोट लगती है ना दोस्तों वो आंखों से नहीं दिल 💔 से रोते है 😢 😢 😢 😢

तुम अगर ख्वाब हो तो नींद हमें भी बहुत गहरी आती है 😢 😢

“मजबूरियाँ तुम्हारी समझते- समझते सारी बात समझ गए हम 😭 💔 😢”

हमारी मजबूरियों के तुम सिलसिले ना पूछो………हम मजबूर हैं ज़िंदा रहने के लिये 😭 💔 😢

सुनो मुझे एक ऐसा शख्स चाहिए,जो डरता हो मुझे खोने से 😣!!

कौन पूरी तरह काबिल है , कौन पूरी तरह पूरा है , हर एक शख्स कहीं ना कहीं किसी जगह से अधूरा है 😭 💔 😢

1 2 3 4 5 6 7